काला जादू वशीकरण तंत्र-मंत्र

[Total: 5    Average: 3.6/5]

काला जादू वशीकरण तंत्र-मंत्र

काला जादू वशीकरण तंत्र-मंत्र, सदियों से चला आ रहा एक किस्म का विश्वास काला जादू कई रूपों मंे प्रचलित है, जिसका मुख्य उद्देश्य व्यक्ति के मनोविज्ञान को नकारात्मक भाव से अपने वश में करना होता है। यह अवचेतन मन को काबू में कर लेता है। इसे एक तरह से भ्रमित करने और किसी द्वारा भेजी गई बाहरी शक्तियों का प्रभाव भी कह सकते हैं।

काला जादू वशीकरण तंत्र-मंत्र

काला जादू वशीकरण तंत्र-मंत्र

इसके अंतरगत भूत-प्रेम, मूठकर्णी विद्या,, वशीकरण, स्तंभन, मारण और टोने-टोटके किए जाते हैं, जो पूरी तरह से तांत्रिक विद्या है। यदि इसे विधि-विधान के साथ किया जाए तो इसके सकारात्मक परिणाम भी मिलते हैं। हानि को लाभ में बदला जा सकता है, तो किसी की मनोदशा में सुधारात्मक बदलाव भी लाया जा सकता है। कुछ प्रयोग इस प्रकार हैंः-

चावल के एक दाने से वशीकरणः किसी स्त्री या पुरुष को अपने वश में करने के लिए काला जादू बहंुत ही सफल उपाय माना गया है। यह वशीकरण मात्र एक चावल के दाने से भी हो सकता है। सूर्योदय के पहले अंधेरा बने रहने के समय घर का कोई एकांत स्थान चुनें और मां कामाख्या देवी का नाम लेते हुए आसन पर बैठ जाएं।

एक सफेद कागज पर उस व्यक्ति समेत उसके माता-पिता का नाम लिखें, जिसे वशीभूत करना चाहते हैं। अपने सामने घी का दीपक जलाएं और बाएं हाथ मंे चावल का दाना लेंकर नीचे दिए गए मंत्र का उच्चारण के साथ 21 बार जाप करें। वह मंत्र हैः- ऊँ हूं ही, ऊँ हो ही हा नमः!!

मंत्रोच्चारण के समय दीपक के पांच फेरे लें और फिर कोगज को दीपक के ऊपर पांच बार घुमाएं। उसके बाद चावल के दाने पर थाड़ा सिंदूर लगाकर उसे भी दीपक के ऊपर से पांच बार घुमाएं।

पूरी पक्रिया के बाद चावल और कागज को गंगाजल के साथ किसी शीशी में बंदकर उसे श्मशान घाट में पेड़ के नीचे मिट्टी में दबा दें। इसका अचुक और चमत्कारी असर कुछ समय ही दिखने लगता है। लेकिन हां, इसका प्रयोग बदले की भावना से नहीं किया जाना चाहिए।

काम-कारोबार में लाभः रोजगार या काम-कारोबार में नुकसान होने की स्थिति में काला-जादू का टोटका लाभकारी उपाय है। इसके लिए अपने वजन के एक चैथाई कोयला नदी में प्रवाहित करने की सलाह दी जाती है।

नौकरी में तबादला रूकवानाः काला जदू के प्रयोग से नौकरी में तबादला भी रूकवाया जा सकता है। कई बार नौकरी में स्थानंतरण की आशंका बन जाती है। इससे होने वाली परेशानियों से बचने के लिए उसे रूकवाना ही आपके हित में हो सकता है।

इसके लिए सूर्यास्त के बाद अंधेरा होने से ठीक पहले चुटकी भर सूरमा लें और उसे किसी एकांत स्थान पर जमीन में दबा दें। इस सिलसिले में गड्ढा खोदने के लिए आसपास की वस्तुओं- जैसे लकड़ी या नुकीला पत्थर आदि का इस्तेमला करें। काम पूरा होने के बाद उस सामान को वहीं पास में फेंक दें। घर वापस लौटते समय तबादला रूकवाने के लिए ईश्वर से मन्नत मांगें।

काला जादू से मुक्तिः कहावत है लोहा लोहे को काटता है। ठीक इसी तरह से काला जादू को बेअसर करने के लिए  इसके तंत्रिक उपाय या टोटके का प्रयोग करना चाहिए। यदि आपका कोई प्रिय व्यक्ति काले जादू का शिकार हो चुके हैं, तो शनिवार के दिन दो नींबू लें ओर उन्हें बीच से काट दें।

उसके कटे हिस्से पर थोड़ा नमक और राई के दाने रखकर उसे दबा दें। इस तैयारी के बाद आधी रात के करीब या फिर सूर्योदय होने से पहले अंधेर रहने पर सुनसान चैराहे पर जाएं। नींबू के चारो टुकडे को अलग-अलग दिशाओं में फेंक दें। इस उपाय के ठीक सात दिन बाद काले जादू का असर खत्म हो जाएगा।

मीठी खाने की वस्तुः काले जादू की प्रक्रिया भले ही काफी अटपटी और उलझी हुई हो, लेकिन उसमें इस्तेमाल की जानी वाली वस्तुएं साधारण होती हैं। खासकर वशीकरण में मीठी वस्तु का प्रयोग  बहुत ही तेजी से प्रभावकारी होता है। इस कारण यदि कोई व्यक्ति आपको मिठाई खिलाए तो सतर्क हो जाएं।

यदि उसके खिलाने के तरीके में प्रेम का बनावटीपन दिखे तब समझ लें आप पर काले जादू का टोटका किया जाने वाला है और आप किसी अनहोनी के शिकार हो सकते हैं। इसलिए यदि विशेष दिन जैसे शनिवार या मंगलवार को कोई जबरन सफेद रंग की मिठाई खिलाए तब उसे खाने से बचें। उस मिठाई को चूर कर खिलाने वाले को भी खिला दें और बाकी बच्चों के बीच बांट दें। कई लोग अपना काम निकलवाने के लिए इस तरह का टोटका करते हैं।

काले जादू में प्रयोग की वस्तुएंः तंत्र-मंत्र और काला जादू का प्रयोग कुछ खास वस्तुओं से किया जाता है। उनमें पान, लौंग, नींबू, इत्र, चमेली, मोगरा या गुलाब के फूल, इालयची, उड़द की दाल, सरसो या राई लौबान या धूप सरसो का तेल आदि मुख्य हैं। इनके साथ सिंदूर और लाल या काला कपड़ा भी उपयोग में आता है। इनके द्वारा वृहद वशीकरण और मारक प्रयोग किया जाता है। कुछ लोग इस रंग के कपड़े पहनकर तांत्रिक कार्य करते हैं या फिर कुछ एसे कपड़े उपहार में देते हैं। इनके उपयोग से भी बचना चाहिए।

कालो जादू प्रयोग की पहचानः यहां तांत्रिक शक्तियों के वशीकरण की पहचान के कुछ तरीक दिए गए हैं।

  • दिल की धड़कन तेज चलने लगे और उस वजह से अनावश्यक नुकसान हो जाए। स्वस्थ होकर भी अस्वस्थता का एहसास हो। यानी शारीरिक और मानसिक कमजोरी का एहसास एक साथ होता है।
  • काले जादू का पहला असर श्वांस की तंत्रिका पर होता है। बगैर किसी भागदौड़ या तेज चलने के बावजदू अचानक सांसे तेज चलने से इसे पहचाना जा सकता है।
  • काला जादू के आघात से रात को डारावने सपने आ सकते हैं। सपने में किसी खुंखार जानवर के हमले का शिकार हो सकते है। आप किसी ऊंचाई से गिरते या पानी की तेज धारा में बहते हुए दिख सकते हैं।
  • काले जादू को सोने के बिछावन से किया जा सकता है। रात को बिछावन के पास पानी का एक ग्लास रखें और कल्पना करें कि आपके ऊपर की गई तांत्रिक शक्ति उस पानी में चली जाए। उसके बाद सो जाएं। सुबह ग्लास के पानी को फूलों के पौधे में डाल दें। इस प्रयोग को आठ दिनों तक करने के दौरान यदि पौध मुरझा जाए तब समझें आप काला जादू के चपेट में थे।
  • काला जादू से बचने के लिए तकिए के नीचे नींबू, लहसून या प्याज रखें।

धूमावती मंत्र साधना प्रयोग